सोमवार, अप्रैल 19, 2010

बोलती फिल्मों का युग अपने साथ विविधता भी लाया

राजेश त्रिपाठी       हिंदी सिनेमा का इतिहास-9
फिल्मी दुनिया में रोमांस और बाद में शादी नये युग की देन नहीं है। 1931 में ‘वसंत सेना’ में पहली बार नायिका की भूमिका करनेवाली दक्षिण भारत की एम ए पास एनाक्षी रामराव निर्माता-निर्देशक एम भवनानी को दिल दे बैठीं और बाद में दोनो ने शादी कर ली। संभ्रांत घराने से आयी एनाक्षी मद्रास के एक पूर्व न्यायाधीश की बेटी थीं। इतिहास की स्नातक प्रमिला ने 1937 में प्रदर्शित फिल्म ‘मेरे लाल’ में नायिका की भूमिका की थी। वह 1939 में ‘मिस इंडिया’ चुनी गयी थीं। वे अपनी फिल्मों के नायक कुमार को प्रेम करने लगीं और बाद में उन्हीं से शादी कर ली। 1934 में कलकत्ता में एक फिल्म बनी थी ‘रूपलेखा’ (बंगला) इसमें देश में पहली बार फ्लैश बैक का प्रयोग किया गया था। प्रमथेशचंद्र बरुआ के निर्देशन में बनी इस फिल्म में एक छोटी-सी भूमिका थी जमुना दास नाम की एक किशोरी ने, जो बाद में कुंदनलाल सहगल अभिनीत ‘देवदास’ की नायिका के रूप में चर्चित हुई। बरुआ के साथ उसका रोमांस भी खूब चला, जो बाद में शादी में बदल गया।
बोलती फिल्मों का युग आया तो फिल्मों के विषय में भी विविधता आयी। प्रेमकथाओं पर ‘हीर रांझा’, ‘सोहनी महिवाल’, ‘मिर्जा साहिबां’, ‘ढोला मारूं’ और ‘लैला मजनूं’ जैसी फिल्में बनीं। पैरामाउंट मूवीटोन के कीकूभाई देसाई ने शुरू-शुरू में कई फंतासी और जादुई फिल्में बनायीं। बाद में उनके उत्तराधिकारी सुभाष देसाई और मनमोहन देसाई ने मल्टीस्टारर फिल्में बनायीं। अलीबाबा, अलादीन, सिकंदर द सेलर तथा थीफ आफ बगदाद जैसी फंतासी फिल्मे कापी लोकप्रिय हुई थीं। 1948 में आयी जेमिनी स्टूडियो मद्रास की कास्ट्यूम फिल्म ‘चंद्रलेखा’ भी काफी सफल रही।
जीवनीमूलक फिल्मों में संत तुकाराम, संत ज्ञानेश्वर, संत तुलसीदास आदि प्रमुख हैं। बंगला भाषा में ऐसी अनेक फिल्में बनीं, जिनमें अधिकांश सुभाष बोस, रामकृष्ण परमहंस, विद्यासागर, भगिनी निवेदिता, राजा राममोहन राय तथा खुदीराम पर थीं। देशभक्ति की विषयवस्तु पर- हकीकत, शहीद (फिल्मिस्तान की) चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, आनंदमठ, अंजनगढ़, पहला आदमी, हिंदुस्तान की कसम आदि फिल्में बनायी गयीं। इसके बाद आधुनिक रोमांटिक फिल्मों का युग आया और ऐंग्री यंग मैन का प्रवेश हुआ।
विफल प्रेम के कथानक पर ‘मेला’, ‘रतन’, ‘आर पार’, ‘दीदार’,‘अनमोल घड़ी’, ‘बरसात’, ‘ बैजू बावरा’, ‘लव स्टोरी’, ‘अंखियों के झरोखे से’, ‘आनंद’ तथा ‘मिली’ बनी और काफी सफल भी रहीं। पूर्व जन्म के कथानक पर ‘ मधुमती’ बनी और बहुत सफल रही। सुनील दत्त की ‘यादें’ भारतीय फिल्म के इतिहास में हमेशा याद की जाती रहेगी। यह अकेली ऐसी फिल्म है जिसमें केवल एक पात्र (सुनील दत्त) था। फ्रैंकफर्ट के फिल्म समारोह में इसे श्रेष्ठ फिल्म के रूप में पुरस्कृत किया गया था। इसी तरह ‘नया दिन नयी रात’ को लोग भूल नहीं पायेंगे क्योंकि इसमें संजीव कुमार ने नौ भूमिकाएं निभायी थीं। इस फिल्म में सरोश मोदी ने अपने मेकअप का चमत्कार दिखाया था।
ऐसे तो फिल्मों में जानवरों की भूमिकाएं पहले भी होती थीं ( इस संदर्भ में फिल्म ‘इनसानियत’ उल्लेखनीय है), पर फिल्मों में पशुओं की भूमिका को प्रमुखता देने का श्रेय दक्षिण भारत के फिल्म निर्माता सैंडो एम एम चिनप्पा देवर (अब स्वर्गीय) को है। उनकी फिल्मों ‘हाथी मेरे साथी’, ‘गाय और गोरी’, ‘मां’ के बाद तो यह सिलसिला ही शुरू हो गया। कुत्ते, बंदर और सांप भी स्टार बनने लगे। ‘शुभ दिन’, ‘कर्तव्य’, ‘तेरी मेहरबानियां’, ‘परिवार’ फिल्में इसकी उदाहरण हैं और यह क्रम जारी है।(आगे पढ़ें)

2 comments:

जी.के. अवधिया ने कहा…

सुन्दर जानकारीपूर्ण पोस्ट!

Mayur Malhar ने कहा…

सुदर पोस्टिंग है. मज़ा आ गया.

एक टिप्पणी भेजें