बुधवार, अगस्त 25, 2010

छोटा कद. बुलंद हौसला

महबूब खान

राजेश त्रिपाठी
छोटे कद और बुलंद हौसले वाले महबूब खान का जन्म गुजरात में बड़ौदा जिले के अंतर्गत एक छोटे से गांव सरार काशीपुर में 7 सितंबर 1906 को हुआ था। लिखने-पढ़ने के नाम पर वे सिर्फ उर्दू में अपना हस्ताक्षर करना भर जानते थे।चेकों पर भी वे लोगों के नाम नहीं लिख पाते थे। बस सिर्फ हस्ताक्षर कर देते थे। शायद यही वजह है कि उन्होने इतनी फिल्में बनायीं , लेकिन किसी की भी स्क्रिप्ट वे साथ नहीं रखते थे। सारा कुछ उनके दिमाग में होता था। कहते हैं कि एक बार कोई अनपढ़ उनसे काम मांगने आया तो कहीं आर काम दिलाने का वादा करते हुए उन्होंने बड़ी विनम्रता से कहा-‘मैं अपने गिर्द और अनपढ़ नहीं रखना चाहता। एक ही काफी है। ’ जाहिर है उनका इशारा अपनी ओर था।

जब वे इक्कीस साल के थे तभी उन्हें फिल्मों में काम पाने की ललक हुई। वैसे फिल्मों में वे पहले ले ही दिलचस्पी लेते थे। इसका नतीजा यह हुआ कि वे 1927 में घर से भाग कर बंबई चले आये। वहां किसी दोस्त की सहायता से उन्होंने उन दिनों की मशहूर फिल्म निर्माण कंपनी इंपीरियल में 30 रुपये माहवार पर साधारण-सी नौकरी कर ली। वे आये थे फिल्म अभिनेता बनने और उनकी यह ख्वाहिश सागर मूवीटोन की पहली सवाक फिल्म ‘मेरी जान’ ने पूरी की। इसमें वे हीरोइन जुबेदा के छोटे भाई बने थे। पूरी फिल्म में उन्हें खलनायक याकूब के कोड़े खाने पड़े थे। वे आठ साल तक कलाकार के रूप में काम करते रहे। इंपीरियल कंपनी में अपनी योग्यता का परिचय देने के बाद, महबूब खान ने सागर मूवीटोन की फिल्मों का निर्देशन किया। सागर मूवीटोन के लिए उनके द्वारा िनर्देशित फिल्में थीं-अल हिलाल, डेक्कन क्वीन,मनमोहन, जागीरदार, वी थ्री (हम तुम और वह), वतन। 1939 में बनी ‘एक ही रास्ता’ से उन्हें बड़ी ख्याति मिली। सागर मूवीटोन के साथ उनकी आखिरी फिल्म थी ‘अलीबाबा’। इसके बाद सागर मूवीटोन नेशनल स्टूडियो लिमिटेड में मिल गया। इस नयी कंपनी का प्रोडक्शन इनचार्ज महबूब को बनाया गया।

महबूब खान
इस नयी कंपनी के साथ उनकी पहली फिल्म थी ‘औरत’। यह किसानों की परेशानी दरसानेवाली ग्रामीण पृष्ठभूमि पर आधारित फिल्म थी। इसका आधार था पर्ल बुक का मशहूर उपन्यास ‘द मदर’। ‘औरत’ में प्रमुख भूमिका सरदार अख्तर ने निभायी थी, जो बाद में श्रीमती महबूब खान बन गयी थीं। अख्तर महबूब की दूसरी पत्नी थीं। ‘औरत’ फिल्म को उन्होंने 1955 में अपने बैनर महबूब प्रो़डक्शन के अंतर्गत ‘मदर इंडिया’ के नाम से बनाया। इसमें उन्होंने सरदार अख्तर वाली भूमिका नरगिस को दी। अन्य भूमिकाएं राजेंद्र कुमार, सुनील दत्त, राजकुमार, कन्हैयाला और कुमकुम को दीं। इसी फिल्म के निर्माण के दौरान सुनील दत्त और नरगिस की मुहब्बत परवान चढ़ी और ‘मदर इंडिया’ की कामयाबी के बाद ही नरगिस-सुनील ने शादी कर ली। यह फिल्म ‘आन’ के बाद बनी महबूब प्रोडक्शन की दूसरी टेकनीकलर फिल्म थी। यह विदेश में भी खूब चली।

‘औरत’ के बाद नेशनल स्टूडियो के लिए उन्होंने ‘बहन’, ‘नयी रोशनी’ ‘जवानी’, ‘निर्दोष’, ‘रोटी’ बनायी। ‘रोटी’ के क्लाइमैक्स दृश्य में चंद्रमोहन को पता लगता है कि उसके पास बक्सा भर सोने की ईंटे हैं लेकिन खाने को एक दाना नहीं। इससे वे संदेश देना चाहते थे कि अगर पैसे से रोटी न खरीदी जा सके, तो वह पैसा बेकार है। ‘रोटी’ के बाद नेशनल स्टूडियो के.के. मोदी ने ले लिया और महबूब खान ने अपनी निर्माण संस्था महबूब प्रोडक्शंस शुरू की, जिसका प्रतीक चिह्न था हंसिया –हथौड़ा। इसके अंर्गत उनके द्वारा बनायी गयी पहली फिल्म थी ‘नजमा’ जिसमें मुसलमानों की सामाजिक स्थिति का चित्रण था। इसमें नवागता वीणा को पेश किया गया था। और बांबे टाकीज के बाहर अशोक कुमार की यह पहली फिल्म थी। इसके बाद महबूब खान ने ‘तकदीर’ बनायी। यह नरगिस की पहली फिल्म थी। उस वक्त उनकी उम्र 14 साल थी। ‘तकदीर’ के बाद ऐतिहासिक फिल्म ‘ हुमायूं’ आयी। फिर उन्होंने तीन ऐसे कलाकारों-सुरेंद्र, सुरैया, नूरजहां- को लेकर ‘अनमोल घड़ी’ बनायी जो अपने गीत खुद ही गा सकते थे। इस फिल्म के गाने नौशाद ने संगीतबद्ध किये जो बहुत ही लोकप्रिय हुए।

महबूब खान ने ‘ऐलान’, ‘अनोखी अदा’, ‘ अंदाज’ ßनरगिस, दिलीप कुमार, राज कपूर) बनायी। ‘अंदाज’ के गीत भी बहुत हिट हुए। इसके बाद उन्होंने अपनी पहली पहली टेक्नीकलर फिल्म ‘आन’ बनायी। इसमें दिलीप कुमार, प्रेमनाथ, निम्मी और नादिरा (जिसकी यह पहली फिल्म थी) की प्रमुख भूमिकाएं थीं। यह फिल्म देश-विदेश में सर्वत्र बेहद कामयाब रही। इससे हुई कमाई से ही उन्होंने बांद्रा में अपना महबूब स्टूडिो खड़ा किया। इस स्टूडियो में उनकी पहली फिल्म थी ‘ अमर’ जिसमें दिलीप कुमार, मधुबाला और निम्मी की प्रमुख भूमिकाएं थीं।उन्होंने एक फिल्म ‘सन आफ इंडिया’ बनायी इसमें मास्टर साजिद, सिमी, कुमकुम व कंवलजीत की मुख्य भूमिकाएं थीं। यह फिल्म इतनी बुरी तरह फ्लाप हुई कि उनके हौसले पस्त हो गये। वे टूट गये। उनके पास स्टूडियो की साज-संभाल के लिए भी पैसे नहीं रहे। वे दिल के मरीज थे। 27 मई 1964 को पंडित जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु की खबर पाकर उन्हें गहरा सदमा पहुंचा। उन्हें तत्काल दिल का दौरा पड़ा और वे हमेशा के लिए गहरी नींद में सो गये। नरगिस, नलिनी जयवंत, वीना और शेख मुख्तार को परदे पर लाने का श्रेय उन्हें ही है। मजहब के बड़े पक्के थे और पांच वक्त नमाज पढ़ते थे। (आगे पढ़ें)

2 comments:

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

आप की रचना 27 अगस्त, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
http://charchamanch.blogspot.com

आभार

अनामिका

indu puri ने कहा…

महबूब साहब के बारे में पढ़ कर अच्छा लगा.'रोती'फिल्म शायद मैंने देखि है. चन्द्र मोहन -कोट पेंट ,हेट,टाई...??? कुछ ऐसा ही था ना वो पात्र. अंत में अपने नौकर को कहता है तुमने मेरी बहुत सेवा की है मेरी गाड़ी स्टार्ट कर दो' नौकर स्टार्टिंग-हेंडल को घुमा कर गाड़ी स्टार्ट करता है और वो खलपात्र उसे कुचलता हुआ आगे निकल जाता है. बाप रे! मैंने आज तक वैसा दृश्य नही देखा.
शायद महबूब साहब का डायरेक्शन का ही कमाल था वो .

एक टिप्पणी भेजें